उत्तर प्रदेश: फर्रुखाबाद में कुंभ मेले के चलते 200 से ज्यादा छपाई कारखाने बंद

ख़बरें अभी तक। फर्रुखाबाद देश मे अपनी छपाई की छाप छोड़ने वाले शहर में कुंभ मेले को देखते हुए 200 कारखाने बंद करा दिए गए है। जिसके चलते हर कारखाने में 20 से लेकर 50 मजदूर काम करते थे। कारखाने बंद होने से उन मजदूरों के परिवारों के सामने खाने पीने की समस्या पैदा होने लगी है, जिसके कारण यह है रोज कमाने खाने वाले आदमी का रोजगार बंद हो गया है। जिससे उसका परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गया है।

जिसके चलते आज छपाई करने वाले मजदूरों और ठेकेदारों ने साथ मिलकर प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दूसरी तरफ कारखाने बंद होने से चाय की दुकान चलाने वालों का भी धंधा बन्द होता नजर आ रहा है। क्योंकि उन चाय की दुकानों पर मजदूर छपाई के दौरान समय निकालकर चाय पीते थे। जिससे उस दुकानदार की आमदनी होती थी।

वहीं सपा के स्थानीय नेता ने यह घोषणा कर डाली यदि कारखाने चालू नही किए गए तो वह सबसे पहले आमरण अनशन शुरू करेंगे। उसके बाद अगर मांगे नहीं मानी गयी तो आत्मदाह करेंगे। धरने के दौरान सर्वोदय मण्डल के नेता एडवोकेट लक्ष्मण सिंह भी पहुंचे उन्होंने कहा कि जो गंगा को मानते है वही गंगा को सबसे ज्यादा गन्दा करते है।

सूत्रों की माने तो छपाई कर्मचारियों के इस प्रदर्शन में कारखाना मालिकों की साजिश बताई जा रही है। जिससे जिला प्रसाशन कारखानों को चालू करा दे। अब देखना यह होगा कि जिला प्रसाशन पर मजदूरों की भुखमरी का क्या असर होता है। क्या उनके भरण पोषण का कोई अस्थाई इंतजाम करता है या नहीं।

Add your comment

Your email address will not be published.